पंडित जी ने मेरी चुदाई की

दूसरा भाग:
पंडितजी यानि की जानू और मैं रानी, दोनों रातों रात भाग कर दुसरे शहर आ गए. पर मेरी बुरी किस्मत ने मेरा साथ यहाँ भी नहीं छोड़ा. पंडितजी की पंडिताई नहीं चल रही थी और मुझे तो जैसे आग ही लगी हुई थी. रात रात भर चुदने के बाद भी और भी चुदने का मन करता था. एक बार सपने में मैंने इनके यजमान के साथ चुदाई का सपना देखा. सुबह तो बड़ा मन ख़राब हुआ पर बाद में मैंने खूब सोच विचार किया.
“ऐ जी, आपकी पंडिताई तो चल नहीं रही है, तो एक बात बोलूँ.”
“कहो” दुखी मन से जानू ने जवाब दिया.
“कल रात में मैंने देखा की आपके तीसरे वाले यजमान पूजा के साथ मेरी भी पूजा कर रहे थे”
“क्या मतलब है तुम्हारा”
“मतलब यही कि आपकी पंडिताई नहीं चल रही है तो मैं ही हाथ बंटा दूं.”
इशारों इशारों में मैंने पंडितजी को मेरा भडवा बनने को कह दिया.

पंडित जी ये सुनते ही भन्नाते हुए घर से निकल गए”
मैं अकेली घर में अपने आप को कोसने लगी कि क्यों मैंने ऐसा कह दिया. मन कर रहा था कि अपनी चूत में आग लगा दूं. साली यही चूत ही सब जंजालों की जड़ है. न ये चूत होती न ही हम लोग यहाँ आते और न ही ऐसी वैसी बात होती.
पंडितजी शाम तक नहीं आये. मैंने दिन का खाना बना कर भी नहीं खाया. और रात का खाना बनाने की हिम्मत नहीं हुई.
पंडित जी की राह देखते देखते ८ बज गए. तरह तरह के बुरे ख्याल आने लगे दिल में. कहाँ होंगे, कैसे होंगे. इतना तो मैंने अपने पहले पति के लिए भी नहीं सोचा था.
तभी देखा की पंडितजी दूर से आ रहे हैं और साथ में कोई यजमान भी है. चलो इनका मूड तो ठीक हुआ, और एक ग्राहक भी मिल गया. कल परसों का खर्चा चल जायेगा.

“रानी इनसे मिलो, ये हैं रमेश जी”
यह सुनते ही मैं चौकन्ना हो गयी. पंडितजी कभी भी किसी के सामने मुझे रानी नहीं कहते. रानी वो तभी कहते जब हम अकेले हों और हम दोनों चुदास हो रहे हों.
खैर मैंने मुस्कुरा कर नमस्ते कहा.
“मैंने घर से निकलने के बाद बहुत सोचा तुम्हारी बात को”
“फिर”
“फिर क्या, अब इनको ले कर जाओ”
ये सुनके मेरी बांछें खिल गयी. पंडितजी ने उधर दरवाजा लगाया और मैं रमेश को ले कर अन्दर कमरे में ले गयी. बहुत दिनों के बाद नया लंड मिला है, उत्सुकता बहुत थी और उम्मीद भी बहुत थी. पर जब मैंने इस ५’८” के आदमी का ५” का ही लंड देखा तो मन थोडा दब सा गया. खैर,

यह कहानी भी पड़े  बीबी की फ्रेंड को फँसाया

रमेश जी तो तृप्त हो गए पर मेरी प्यास नहीं बुझी. तब पता चला की आदमी के कद से उसके लंड की लम्बाई नहीं पता चलती.

अब मेरी चाहत सामूहिक सम्भोग की थी. पंडित जी को बताया तो “नेकी और पूछ पूछ”. उनके कुछ ग्राहक, जो मेरे भी ग्राहक थे, उनकी सामूहिक सम्भोग की प्रबल इच्छा थी.
उस दिन रात में करीब ५ लोग आये थे. सब की उम्र कुछ ५० -५५ के आस पास ही होगी. इनका मानना था की पुरानी शराब की बात ही कुछ और है. इस दुनिया में अभी भी लोग तजुर्बे को तवज्जो देते हैं.
कमरे में सभी लोग मौजूद थे. पंडितजी हमेशा की तरह बाहर ही बैठे थे. ये बहुत दिनों से बाहर किवाड़ों की छेद से अन्दर का नज़र देख कर हस्तमैथुन कर लेते थे. नतीजा मैं बहुत दिनों से पंडित जी से नहीं चुदी थी.
सामूहिक सम्भोग तो सामूहिक बलात्कार जैसा हो रहा था. लोग मेरे कपडे खीच रहे थे. और मैं पगली एक एक कर के उनका लंड पजामे, या पैंट के ऊपर से सहला रही थी. दो लोगो का मैं हाथ से सहला रही थी और एक का जीभ से. इस बीच सारे जानवर मेरे कपडे फाड़ कर मुझे निवस्त्र कर चुके थे. मुझे नंगी देख कर उनका लंड और भी हुमचने लगा. बचे दो लोग में से एक मेरी चूत में ऊँगली करने लगा और एक मेरी गांड में. कमीनो ने एक एक ऊँगली कर के चार चार उँगलियाँ मेरी चूत और गांड में घुसा दी. मैं दर्द से चिल्लाने लगी और उन्हें लगा कि मुझे मजा आ रहा है. सब के सब अब नंगे हो गए. मुझे कुतिया बना कर एक ने अपना लंड मेरे मुंह में दे दिया जिससे मेरे चिल्लाना भी बंद हो गया. और दो लोगो का लंड और पजामे से बहार सक्षार्थ हो गया था. मैं उनका लंड हिलाने लगे. बाकी बचे दो लोग अभी भी मेरी ऊँगली कर रहे थे.

यह कहानी भी पड़े  पड़ोसन लड़की होली खेलने आई और चुत चुदवा गई

अब इन लोगो ने अपनी स्थिति बदली और एक ने मुझे अपने लंड पर बिठा लिया. इसका लंड मेरे बुर पर फिट बैठ गया. अब चारों लोग एक एक कर के अपना लंड मेरे मुंह में देने लगे और एक – दो का मैं लंड हिला हिला रही थी.
फिर मुझे चित सुला कर एक ने मुझे चोदना शुरू किया और मैं निरंतर किसी को मुखमैथुन प्रदान कर रही थी और किसी दो को हस्तमैथुन. योनिमैथुन अभी भी चालू था. थोड़ी देर में एक झड गया और नया वाला तो और हरामी, उसे तो गुदामैथुन ही करना था. मुझे घोड़ी बना कर मेरी गांड चोदनी शुरू की और वो भी थोड़ी देर में झड गया. एक एक कर के सब तृप्त हो गए. पर मैं अभी तो पछाई नहीं थी. चौथा वाला मुझे थोडा करीब ले कर आया था पर वक़्त से पहले ही झड गया.
सब लोग पंडितजी को पैसे दे कर अपनी पतलून ले कर विदा हो गए. मैं अभी तक नंगी ही बैठी थी. पंडितजी अन्दर आते हैं. मुझे नंगे देख कर कहते हैं “रानी ये क्या? क्यों मजा नहीं आया?”
“जानू तुम्हारी वाली बात ही कुछ और है”
पंडितजी तो इस बात के लिए तैयार ही नहीं थे, मुझे ही कुछ करना पड़ेगा.
मैंने पंडितजी का लंड पर हाथ लगाया, जो सोया हुआ था. धीरे धीरे सहलना शुरू किया. फिर घुटनों के बल बैठ कर धोती के ऊपर से चाटने लगी. उनके पिछवाड़े से धोती की गाँठ खोली और आगे से दूसरा बंधन खोल दिया. पंडितजी अब चड्डी में थे. ऐसे जब उनका मन होता है तो वो बिना चड्डी के ही धोती पहनते हैं पर आज बात ही दूसरी थी. मेरा हाथ पड़ते ही उनका लंड खड़ा होने लगा. उनके कमर से धीरे धीरे चड्डी सरकाई और उफनते लंड को अपने मुंह में ले लिया. कितनो को सोया लंड मेरे मुंह में आकर सांप हो जाता है और फिर ये तो पंडित जी थे. उनके लंड को लोहा बनने में ज्यादा समय नहीं लगा.

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


चाची का गैंगबैंग चुदाई storieअंतरवासना गेर जबरदस्त चुदाइसेक्सी. कहानी बहू की सलवारbabuji ki gay sex storyहिंदी में लैपटॉप पर बातें करते हुए भाई और बहन की चुदाई की सेक्सी कहानीBahan ki bagal ke bal se pagal huaa bhai xxx story सेक्सी विडियो माँ बेटा हिन्दी मे गालीkahanibhanbhaichudaimousi ko kitchan mein chooda hindi sex storyantarvasna मुझे लगा कि मैं इसे नहीं ले पाऊँगीdaru ke nashe me chudai nonveg story.चुदाई चारो की बुरचुदाई कहानी मुमबई की खोली मे बाप बेटी की चुदाईGarwali sexy kahniकाकीची ठुकाई कथाantarvasna.vidhwa.nookrani.se.sadiuncle aur ma ke najayaj sabad ki storiesDidi ki kachchi jawaani ko lode ki jaroorat sex story Hindiमस्त माँ हिन्दी कहानियाँXXXX. .18. साल कि मनिषा चुदगई Comhttps://otkrivashki.ru/teatroporno/chachi-ne-khola-chut-ka-pitara/खानदान में चुदाई ही चुदाईxnxx Hindhi mai 23मौसि के chakkar me maa ko chod diya sex ki sachi kahaniya.inmarks badwane ke liye chudai antarvasnaबाजारु औरत की गांङ मारीChachi ki chut ki bhosadhi banai kahaniमकान को घर की चुदाईचाचि कि चूदायिnokar ne pariwar ki ourto ko virya pilya sex storyjawanikahanixxxउईईईईई फक मी सेक्स स्टोरीदो लंडसे चुदाईBarsat kea mosam mean bhan ki chudai sex story in hindisexy story bhua kiरज़ाई में बहन चुदीantarvsana.com nita roma sani groupपूजा शाली को चोदाsexstorehindeBiloo mechoot ki chudai mota lnd se stori hindi mehinde.khane.bate.xxx.jabr.jastecar se safar me sex storypron pelo wesa ki ladki bhi yad rkheआह मादरचो मज़ा आ रहा हे कहानीसेक्सी टीटी की कहानीसेक्सी कहानिया ओडीयो हिदी बतैBua ki beti randi ki tarah hotel me chudwayimousi ka diwana sexy kahaniyaodiabhabisixeअम्मी जान की गा़ड चुदाईकरवा चौथ पर चुदाईDidi aapki gand bhut sexy hrula diya 10 inch ke mota land se sex story hndividash sex stiry hinde maनहते।हुया।भाभी।को।देखाचोदाई।hindi aabaj gali chudai saf.xxx.comमाँ को मसा ने रजाई में पेल कर गर्भवती कियातीन मोटे लंड ममी कि अकेली चुत कहानीलंड पे मंगलसूत्र लपेट के चूसलंबी सेक्स चुदाइ स्तोरिसहाय मम्मी चुद गयी सेक्सी बाबा डॉट कॉमदुकान मालकिन ने चोदना सिखाया.comपरिवारिक रंडियां सेक्स स्टोरीमाँ को रेलगाडी मे चोदाdidi ki shadi ke baad agli raatगाँव में चुदाई सेक्सी स्टोरी हिन्दी कामुकता कोममैं ताई के चूतडो पर हाथ फेर रहा थाVeerey aane wala sexy videoयास्मीन की चूत मरीहोट चुत की कहानी हो गई गर्भवतीsasu ma damad sex onlin dkna haसुहानी की गरम करके चुड़ै स्टोरीभाई बहन कि गाड़ पेलाई रजाइ मेbilu hindi full saxy video dudh waleबाबूलाल के सेक्सी चुटकलेBiwi Holi me nangi kahaniPeso k badle chudai hindi sex kahaniशादी शुदा दिदी चुत दिलवाईHindi sex chudai khaniya safar jabardarti chudiyanind ki guli khilake sasurji ne chodaसेकसीलडकीआदिवासी ki nangi sexy kahaniचुत मेँ लंड डालने की असली घटना मजे के साथभावना की चुदाईsexhindikahaniburchudasi auntiyan storypriwar me chudhi sex storieshindi सौतेली माँ की सेक्सी कहानियाँ उसके बेटे और उसके दोस्त के साथGhar per bhuaaki chuddai videoIndiansexstores